Swami Vivekananda Quotes in Hindi | स्वामी विवेकानंदजी के अनमोल वचन

Swami Vivekananda Quotes in Hindi: यहाँ हमने स्वामी विवेकानंदजी की विभिन्न विषयो पर अनमोल वचन हिंदी में (Swami Vivekananda Quotes) में दिए है|

भारत में जिनके जन्म दिन पर “राष्ट्रिय युवा दिवस” मनाया जाता है ऐसे स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12 January 1863 दिन बंगाल के कलकत्ता में हुआ था| यहाँ निचे हम पहके उनके सन्दर्भ कुछ प्राथमिक जानकारी दी है बाद में उनके अनमोल वचन दिए है|

नामनरेन्द्रनाथ दत्त
पिताविश्वनाथ दत्त 
माता भुवनेश्वरी देवी
जन्म दिनांक12 January 1863
गुरु रामकृष्ण परमहंस
धर्म हिन्दू
मृत्यु4 जुलाई 1902
दर्शन आधुनिक वेदांत, राज योग

स्वामी विवेकानंद हिन्दू धर्म के सबसे प्रसिद्द संतो में से एक है जिन्होंने हिन्दू धर्म को सही तरीके से लोगो तक पहुचाने का काम किया. सन 11 सितम्बर 1893 में विश्व धर्म सम्मेलन में उन्होंने हिन्दू धर्म की अगुवाई की थी| उनके वक्तव्य से वहा के सभी लोग बहुत प्रभावित हुए थे और उनको भी बही से देश विदेश में ख्याति प्राप्त हुई थी|

यहाँ निचे हमने आपसे स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन विविध विषयो पर आपसे शेयर किया है जैसे की युवाओं, सफलता, कार्य, एजुकेशन इत्यादि. हमें आशा है की यहाँ दिए गए सभी अनमोल वचन आपको पसंद आयेगे|

स्वामी विवेकानंद के अनमोल वचन | Swami Vivekananda Quotes in Hindi

यहाँ निचे हमने आपसे स्वामी विवेकानंद के अनमिल वचन को आपसे शेयर किये है| यहाँ दिए गए अनमोल वचन आपको एक मोटिवेशन प्रदान करने और सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त करने में काफी मददरूप होगे|

उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त नहीं हो जाता।
Swami Vivekananda
एक समय में एक काम करो और ऐसा करते समय अपनी पूरी आत्मा उसमे डाल दो और बाकि सब कुछ भूल जाओ।
Swami Vivekananda
खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप है।
Swami Vivekananda
विश्व एक विशाल व्यायामशाला है जहाँ हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं।
Swami Vivekananda
जो कुछ भी तुमको कमजोर बनाता है – शारीरिक, बौद्धिक या मानसिक उसे जहर की तरह त्याग दो।
Swami Vivekananda
हर आत्मा ईश्वर से जुड़ी है, करना ये है कि हम इसकी दिव्यता को पहचाने अपने आप को अंदर या बाहर से सुधारकर। कर्म, पूजा, अंतर मन या जीवन दर्शन इनमें से किसी एक या सब से ऐसा किया जा सकता है और फिर अपने आपको खोल दें। यही सभी धर्मो का सारांश है। मंदिर, परंपराएं , किताबें या पढ़ाई ये सब इससे कम महत्वपूर्ण है।
Swami Vivekananda
पहले हर अच्छी बात का मजाक बनता है फिर विरोध होता है और फिर उसे स्वीकार लिया जाता है।
Swami Vivekananda
सत्य को हजार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी वह एक सत्य ही होगा।
Swami Vivekananda
शक्ति जीवन है, निर्बलता मृत्यु है। विस्तार जीवन है, संकुचन मृत्यु है। प्रेम जीवन है, द्वेष मृत्यु है।
Swami Vivekananda
विवेकानंद ने कहा था – चिंतन करो, चिंता नहीं, नए विचारों को जन्म दो।
Swami Vivekananda
एक विचार लें और इसे ही अपनी जिंदगी का एकमात्र विचार बना लें। इसी विचार के बारे में सोचे, सपना देखे और इसी विचार पर जिएं। आपके मस्तिष्क , दिमाग और रगों में यही एक विचार भर जाए। यही सफलता का रास्ता है। इसी तरह से बड़े बड़े आध्यात्मिक धर्म पुरुष बनते हैं।
Swami Vivekananda
एक अच्छे चरित्र का निर्माण हजारो बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।
Swami Vivekananda
हम जो बोते हैं वो काटते हैं। हम स्वयं अपने भाग्य के निर्माता हैं।
Swami Vivekananda
बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है।
Swami Vivekananda
जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भागवान पर विश्वास नहीं कर सकते।
Swami Vivekananda

Leave a Comment